SEO क्या है और कैसे करे? What is SEO in hindi पूरी जानकारी

SEO क्या है और एसईओ कैसे करे? What is SEO in Hindi. यह किसी भी नए blogger या website owner को जरुर पता होनी चाहिए। दरसल Digital marketing और Internet की दुनिया इसी तीन शब्द ‘SEO’ के उपर चलती है। इसलिए आज हमलोग seo kya hai? के बारे में पूरी विस्तृत रूप से चर्चा करेगे।

आप ख़ुद ही सोचकर देखिए, जितनी भी बड़ी-बड़ी कंपनियां है। वे अपने Proudct और Servies को online sell करने के लिए, आख़िर क्यों लाखों रुपये सिर्फ एसईओ पर ख़र्च करती है। जाहिर सी बात है, उन्हें अपने साईट पर SEO करवाने से अच्छा फ़ायदा होता होगा।

ऐसे में अब आपके भी दिमाग में यह जरुर चल रहा होगा। आखिर यह seo kya hai? क्यों SEO Blog/Website के लिए जरुरी होता है? SEO Kaise Kare?

तो आपको बता दू की SEO ही एक मात्र ऐसा तरीका है। जिसकी मदद से आप अपने साईट को search engines के first page पर rank करा सकते है। इससे आपके साईट को visitors ज्यादा पसंद और trust करने लगते है।

इसके अलावा seo से आपके साईट पर ज्यादा मात्र में Organic Traffic आने लगते है। जिसके कारण आपकी अच्छी खासी कमाई होने लगती है। लेकिन यहाँ तक पहुँचना उतना आसान काम भी नहीं है। इस मुकाम तक पहुचने के लिए आपको अपने Articles में सही तरीके से SEO (एसईओ) करना होता है।

जब आप अपने Articles को सही तरीके से Optimized करेगे। तभी जाकर आपका Article Search Engine में rank होगा। इसी पुरे प्रोसेस को ही एसईओ कहा जाता है।

Blogging में success पाने के लिए SEO का बहुत बड़ा रोल होता है। आप यह भी कह सकते है की, SEO blogging की जान है। इसलिए आपको अच्छा Article लिखने के साथ साथ Article में seo का इस्तमाल भी अच्छी तरह से करना होगा। तभी जाकर blogging में success पा सकते है।

इसलिए ब्लॉगिंग में सफलता पाने के लिए, आपको SEO tutorial पढते रहना होगा। क्यों की SEO का कोई fixed rule नहीं होता हैं। बल्कि यह कुछ Google Algorithms के ऊपर डिपेंड करता हैं। जो समय के हिसाब से निरंतर बदलते रहते है।

SEO का सीधा सा सम्बंध search engine से होता है। ताकि हमारी website पर ज्यादा से ज्यादा traffic increase हो सके। चलिए जानते है, SEO (सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन) kya hai? What is SEO in Hindi? SEO Blog के लिए क्यों जरुरी है? SEO Kaise Kare? एसईओ की पूरी जानकारी हिंदी में.

SEO Kya Hai? (What Is SEO In Hindi)

SEO Kya Hai

SEO यानि सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन एक ऐसा तकनीक है। जिसकी मदद से आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट के page को search engine में top पर ला सकते है। पूरी दुनिया में Google सबसे popular search engine है।

इसके अलावा दुनिया में Yahoo, Bing जैसे दुसरे सर्च इंजन भी मौजूद है। ऐसे में SEO ही वह तरीका है। जिसकी मदद से आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को search engine में first position पर रख सकते हैं।

उदाहारण के तौर पर मान लीजिए, जब आप गूगल में अपने जरुरत की कोई keyword जैसे की “seo kya hai” टाइप करके search करते हैं।

तो गूगल आपको seo kya hai “keyword” से related जितने भी contents होते हैं। वह आपके सामने search result में दिखा देता हैं। यहाँ जितने भी contents आपके सामने आ रहे होते हैं। वो सभी contents किसी न किसी blog या वेबसाइट के होते हैं।

अब आप गूगल के search result में जिस ब्लॉग के पोस्ट को सबसे उपर देख रहे है। वह Google में No. #1 rank पर सिर्फ इसलिए है। क्यों की उसने अपने blog पोस्ट में SEO का सही ढंग से प्रयोग किया है। इसी कारण इस ब्लॉग पर ज्यादा visitors आएगे और देखते ही देखते वह ब्लॉग काफी पोपुलर हो जाता है।

अगर Seo को एक लाइन में समझना है। तो आप बस इतना समझ लीजिए, Google सिर्फ उसी content को पसंद करता है। जिसे user सबसे ज्यादा पढ़ना पसन्द करते है। seo गूगल का most important factor है। Google लगभग 200 से भी ज्यादा Seo factor पर काम करता है।

अगर आप अपनी website पर ज्यादा से ज्यादा traffic लाना चाहते है। जिससे की आप अच्छी खासी income generate कर सके। तो आपको अपनी website पे Organic traffic बढ़ाने के लिए, ब्लॉग पोस्ट में SEO का इस्तेमाल सही ढंग से करना जरुरी है।

SEO full form हिंदी में

SEO full form

Blog के लिए SEO क्यों जरुरी है?

उम्मीद करते है अब आप समझ गए होगे की seo kya hai in hindi? चलिए अब आपको समझाने की कोशीस करते है की SEO Blog के लिए क्यों जरुरी होता है?

अगर आप एक blogger हैं। तो आपको यह जरुर पता होगा की, हर रोज internet पर लाखों की संख्या में blog post publish होते हैं। लेकिन उनमे से केवल कुछ ही blog post search engine में top rank प्राप्त कर पाते हैं।

ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि Google जैसे search engine का algorithm किसी भी पोस्ट को ranking देने से पहले, कई चीजों की बारीकी से जांच करता है। उसके बाद ही वह यह निर्णय ले पाता है की उसे कौन से पोस्ट को किस keyword पर और किस position पर rank देना है।

गूगल का सिंपल सा फंडा यह है की, वह हमेशा अच्छे और quality content को ही first page पर rank देना चाहता है। Ranking factors के लिए कई सारे नियम बनाए गए हैं। हमलोगों को बस Search Engine Optimization (seo) की मदद से उन नियमो का पालन करना होता हैं।

उदाहरण के तौर पर मान लीजिए, आपने एक अच्छा सा website बना लिया। उसमे आपने एक से बढ़कर एक high quality contents post भी publish कर दिए। लेकिन आपने अगर उसमे SEO का इस्तेमाल नहीं किया है। तो यकींन मानिये आपका website लोगों तक नहीं पहुँच पाएगा। आपके वेबसाइट बनाने का किसी को भी कोई फायेदा नहीं मिलने वाला है।

बिना seo के पोस्ट लिखना एक तरह से रात के अंधेरे में वह भी आखों पर काला चस्मा लगाकर सुई खोजने जैसा है। लेकिन अगर आप अपने पोस्ट में seo का इस्तमाल सही तरीके से करते है।

तो जब भी कोई user आपके पोस्ट से रिलेटेड कोई keyword search करेगा। तो वह यूजर search engine में आपके site को आसानी से ढूंढ कर आपके website को access कर सकेगा।

मान लीजिये आपने google search engine में कोई keyword सर्च किया। जैसे की “What is search engine optimization?”

what is seo

सर्च करने के बाद आप पाएगे की, इस Keyword से रिलेटेड जानकारी के लिए 18,70,00,000 webpages पहले से ही उपलब्ध है। ऐसे में अगर आप इन सभी web pages को पीछे छोड़कर top पर आना चाहते हैं। तो यह काम SEO से ही हो सकता है।

यहाँ आप यह भी कह सकते है। क्यों न मै ऐसे keyword पर आर्टिकल लिखु। जिस पर किसी भी तरह का कोई competition ना हो।

तो आपको बता दू की, अगर आपका article SEO optimized नही है। तो कल कोई दूसरा व्यक्ति उसी keyword पर article लिखकर आपसे आगे निकल जाएगा। यही कारण है की, अपने article में SEO techniques का इस्तमाल करना बहुत जरुरी है।

क्या SEO करना कठिन कार्य है?

SEO को समझकर उसे अपने ब्लॉग पोस्ट में optimized करना, इतना मुश्किल काम भी नहीं है। अगर आपने थोड़ी मेहनत करके seo को सिख लिया। तो आप आसानी से अपने blog को काफी बेहतर बना सकते हैं। उसके बाद आप ख़ुद अपने ब्लॉग का value search engine में देख पाएगे।

आपकी जानकारी के लिए बता दू की, जब आप SEO का इस्तेमाल अपने blog पर करेगे। तो उसका result आपको तुरंत दिखने को नहीं मिलेगा। इसके लिए आपको थोड़ा धैर्य बनाए रखना है और अपना काम निरंतर करते रहना है।

वैसे भी यह सभी को पता है, सब्र का फल हमेसा मीठा होता है। इसलिए आप सब्र और मेहनत के साथ अपना कार्य करते रहे। आपकी मेहनत एक न एक दिन जरुर रंग लाएगी और दुनिया देखेगी।

Traffic पाने के लिए Google के First Page पर Rank करना क्यों जरुरी है?

हर एक ब्लॉग ओनर यही चाहता है की उसका blog post गूगल सर्च रिजल्ट में पहले पेज पर दिखाई दे। क्योंकि फर्स्ट पेज पर दिखाई देने वाली वेबसाइट को ही लोग ज्यादातर visit करना पसंद करते हैं। एक रिसर्च के मुताबिक लगभग 94% क्लिक, Google के फर्स्ट पेज से ही आते हैं।

first-position-in-google

फर्स्ट पेज पर आने वाले search results को ही Users ज्यादा trust करते हैं। जिसके कारण आप अपने ब्लॉग की मदद से लोगों के बीच पोपुलर जाते हैं। आपके users आपकी तरफ खीचे चले आते है और आपकी कमाई बढ़ जाती है।

यही कारण है की हर कोई यह चाहता है वह SERP में First Page पर आए। ताकि वह अपने competitor से आगे निकल जाए और ज्यादा पैसे कमा सके। लेकिन ऐसा करने के लिए आपको SEO क्या है और कैसे करे की पूरी जानकारी होनी चाहिए।

Types of SEO in Hindi

types of seo in hindi

गूगल अपने algorithm के मध्यम से किसी भी ब्लॉग या वेबसाइट के quality और credibility (विश्वसनीयता) को आधार बनाकर रैंकिंग प्रदान करता है।

ऐसे में SEO techniques की मदद से हम अपने वेबसाइट की quality और credibility को ज्यादा से ज्यादा improve करने की कोशिश करते है।

इस काम को पूरा करने के लिए हमारे पास ३ tool मौजूद है। पहला Onpage SEO दूसरा Offpage SEO और तीसरा Technical SEO है। चलिए एक एक करके हम इनके बारे में जान लेते हैं।

  1. On-Page SEO
  2. Off-Page SEO
  3. Technical SEO

On-Page SEO क्या है?

On-Page SEO में हमे अपने website या blog के content को optimize करना होता है। आप इसमें अपने specific post के content का seo करते है। इसके लिए हमें मुख्य रूप से तीन काम करने होते हैं।

  • Keyword Research करना
  • Content Create करना
  • Keyword को Optimization करना

Keyword Research करना

अपने ब्लॉग पर article लिखने के लिए सबसे पहले आपको एक ऐसा keywords ढूंढना पड़ेगा। जिसे लोग google पर ज्यादा search करते हो। ताकि आप अपने article को उस keyword पर google search में rank करा सके।

अगर आप बिना Keyword Research किए article लिखते हैं। तो आपके article की रैंक होने की उम्मीद बहुत कम हो जाती है।

Keyword find करने के लिए इन्टरनेट पर बहुत सारे free और paid tools उपलब्ध हैं। जिससे आप आसानी से valuable keyword research कर सकते है।

जैसे की:

  • Ahref
  • SEMrush
  • Ubersuggest
  • Google Keyword Planner

ये tools आपको किसी भी keyword की traffic और competition बताने में मदद करती है। इससे आप अंदाजा लगा सकते है की किस keyword की क्या value है।

Content Create करना

Keyword find करने के बाद आपको कंटेंट क्रिएट करना है. यानि की पोस्ट लिखना है। पोस्ट लिखते समय आप content की quality का जरुर ध्यान रखे। क्यों की Content को King कहा गया है।

आप जितना अच्छा अपने ब्लॉग पोस्ट की Content लिखेगे। आपके साईट को उतनी ही अच्छी ranking मिलेगी। इसलिए कुछ ऐसा लिखे जिसे आपकी audience पढना चाहे। Quality Content वाली आर्टिकल लिखने के लिए आप दुसरे किसी के आर्टिकल की कॉपी ना करें।

आर्टिकल को attrictive बनाने के लिए important keywords को bold करे। आप कम से कम 800 से 1000 words की content लिखने की कोशिस करे। लेकिन पोस्ट को बड़ा करने के चक्कर में ऐसा कुछ ना लिख दे। जो आपके पोस्ट के ट्रोपिक से सम्बंधित ही ना हो।

Keyword को Optimization करे

अब आपको अपने target keywords को सही जगह पर set करना है। ताकि आपका Content उन keywords के लिए optimized हो जाए।

जैसे की:

  • Title Tag
  • URL Structure
  • Heading
  • Alt Tags
  • Internal Link
  • Meta Description

Title Tag

अपने ब्लॉग के टाइटल टैग को ऐसा बनाए। जिससे की कोई भी visitors आपके title को पढ़ते ही उस पर क्लिक कर दे। इससे आपको दो फ़ायदे होगे, पहला आपका page views बढेगा और दूसरा आपका CTR increase हो जाएगा।

इसके अलावा Title Tag में आप अपने target keywords का जरुर इस्तमाल करे। जैसे की अगर आपका target keyword “seo kya hai”. तो आपका Title Tag कुछ इस प्रकार से होगा। – Seo Kya hai? पूरी जानकारी आसान शब्दों में पाए.

नोट : टाइटल में आप 65 words से ज्यादा शब्दों का use ना करे। क्यों की google search result में केवल 65 word ही Title Tag में show होते है।

URL Structure

आप हमेसा कोशिस करे की आपके blog Post का URL short और simple हो। साथ ही आप अपने Post URL में target keywords का इस्तमाल करे।

अगर आपका ब्लॉग WordPress है। तो आपका permalink यानि पोस्ट का url structure आपके target keywords के साथ कुछ इस प्रकार से होगा।

https://hindimenotes.in/seo-kya-hai

Heading

आपके ब्लॉग पोस्ट का heading, seo पर बहुत गहरा प्रभाव डालता है। इसलिए article में heading का इस्तमाल करना बहुत जरुरी है।

वैसे H1 आपके article का Title हो जाता है। लेकिन आप बाक़ी बचे headings जैसे की H2, H3, H4 इत्यादि का इस्तमाल अच्छी तरह से करे। साथ ही heading में target keywords का भी इस्तमाल करे।

Alt Tags

अपने content को attractive बनाने के लिए article में Images का इस्तमाल जरुर करे। क्यों की Images की मदद से भी आप traffic पा सकते है।

लेकिन ध्यान रहे Image में ALT TAG जरुर डाले। ऐसा करके आप search result को यह बता सकते है की आपकी यह इमेज किस चीज़ के बारे में है।

Internal Link

जब आप अपने ब्लॉग के एक पोस्ट में उसी पोस्ट से रिलेटेड किसी दुसरे पोस्ट का लिंक डालते है। तो उसे InterLinking करना कहते है।

ऐसा करने से आपको दो फ़ायदे होगे पहला आपका ब्लॉग पोस्ट rank होने लगेगा और दुरसा आपके साईट की bouncing rate कम होगी।

Meta Description

आप Meta Description का भी इस्तमाल जरुर करे। ऐसा करने से search engine को यह आसनी से पता चल जाता है की आपका article किस विषय के उपर आधारित है। Meta Description में आप अपने target keywords का इस्तमाल जरुर करे।

Off-Page SEO क्या है?

आपको Off-Page के नाम से ही अंदाजा लग गया होगा की इसे page के अंदर नहीं बल्कि बाहर से promote किया जाता है। दरसल अपनी website के links को internet की मदद से promote करना ही Off-Page SEO कहलाता है।

On-page seo में आपको अपने website के अंदर बदलाव करने होते है। लेकिन off-page SEO में आपको अपने वेबसाइट को बहार से बदलाव करते हुवे वेबसाइट की ranking बढ़ानी होती है।

Off-Page SEO की मदद से website की authority और reputation increase होती है। Off-Page SEO कैसे करे की पूरी जानकारी निचे शेयर की गयी हैं:

1. Create Backlink:

Backlink kya hai

जब हम किसी दूसरे के वेबसाइट पर जाकर अपने website का link submit करते है। तो उसे Backlink कहते है। किसी दूसरे के वेबसाइट से link प्राप्त करना ही backlink कहलाता है। Backlink create करने के लिए कई सारे तरीके हैं।

जैसे की:

Blog Commenting: अपने ब्लॉग से सम्बंधित किसी दुसरे के ब्लॉग पर जाकर, आप उनके ब्लॉग post में comment कर सकते है।

Guest posting: इस techniques में आपको अपने blog से related किसी blog पर जाकर Guest post लिखना होता है। Do-Follow Link पाने का यह सबसे बेस्ट तरीका है। लेकिन Guest posting आप उन्ही के blogs पर करे जिनका PA, DA और Alexa Rankingअच्छा हो।

Q & A Sites: आप questions और answer वाली साइट्स जैसे की Quara, YAhoo इत्यादि पर जाकर किसी दुसरे के प्रशनों का उत्तर देते हुवे अपने blog या blog post का link add कर सकते है।

Bookmarking: अपने blog के posts को Bookmarking वाली websites पर submit जरुर करे।

Pin: आप अपनी images से भी traffic generate कर सकते है। इसके लिए आप अपनी blog post के image को pinterest पर शेयर करे।

Search Engine Submission: आपनी websites को सारे पोपुलर search engine में submit करे।

2 Social Media Sharing: अपने ब्लॉग post को promote करने के लिए Social Media एक बहुत ही बेस्ट platform है। इसलिए आप अपने पोस्ट को सोशल मीडिया पर जरुर शेयर करे।

दरसल सोशल मीडिया साइट्स पर पोस्ट शेयर करने से search engine को कुछ अच्छे signal मिलते है। जिसके कारण search engine उन Post को Ranking प्रदान कर देता है।

नोट : ध्यान रहे आप उन्ही websites से backlink बनाए जिनकी क्वालिटी अच्छी हो। वरना आपके blog पर इसका negative प्रभाव भी पड़ सकता है।

Technical SEO क्या है?

Technical SEO audience को ध्यान में रखकर किया जाता है। इसे आप local seo भी कह सकते है। इस तकनीक में हमे user experience (UX) को improve करने के लिए website के backend पर काम करना होता है। इसके लिए आपको निचे बताए गए कुछ बातों का पालन करना है।

Page Speed:

आपको आपने website की loading speed अच्छी करनी होगी। क्यों की अगर आपकी website की loading speed slow होगी। तो user आपके साईट को close करके कहीं और चले जाएगे।

यूजर के ऐसा करने से google search engine को negative signal मिलता है। जिसके कारण आपके site की ranking down हो सकती है। आपने website की loading speed आप Google PageSpeed Insights site पर जाकर चेक कर सकते हैं।

Mobile Friendly Site:

आपकी Website Mobile Friendly होनी चाहिए। यानि की आपकी साईट मोबाइल पर अच्छे से open होने के साथ साथ अच्छी दिखनी भी चाहिए। ऐसा करने के लिए आपको अपने website पर responsive theme का इस्तमाल करना होगा।

HTTPs (SSL Certificate) का इस्तमाल करें:

यह एक तरह का secured protocol है, जो आपके website को सुरक्षित रखती है। इसलिए आप अपने website पर HTTPs (SSL Certificate) का इस्तमाल जरुर करे।

Google ने August 2014 में यह घोषणा किया था की HTTPs website भी ranking factor में से एक है।

Website Navigation :

यूजर आपके website पर एक जगह से दुरसी जगह आसानी से आ जा सके। इसके लिए आपको अपने website पर Navigation का इस्तमाल करना होगा। इससे आपके site पर आए visitors आसानी से एक page से दुसरे page पर आ जा सकेगे।

Robot.txt File:

यह आपके website की बहुत ही important file है। Robot.txt File की मदद से आप search engine यह बता सकते है की आप आपने website के किस पेज को index करना चाहते है और किसे नही करना चाहते है। इसलिए ध्यान रहे इन settings को आप बहुत ही सावधानीपूर्वक करे।

Fix Broken Links:

किसी भी website पर Broken Links तब create होता है। जब उस blog या website पर उस link का कोई page मौजूद नहीं होता है।

आपको बस इस तरह के links को ढूंढ कर fix कर देना होता है। इसके लिए आप broken link checker साईट की मदद ले सकते हैं। इसके अलावा अगर आपकी वेबसाइट WordPress पर है। तो आप Broken Link Checker Plugin का इस्तेमाल कर सकते हैं।

तो ये कुछ techniques, जिन्हें Technical seo में करना बहुत आवश्यक होता है। इनके अलावा भी आपको अपने website के लिए कुछ basic seo setting करने होते है।

1. Sitemap Optimize करें

XML Sitemap Optimization SEO का बहुत ही जरूरी part है। यह एक XML File है, जिनमे आपके website के pages, post categary etc. के list होते है।

अगर आपकी ब्लॉग या वेबसाइट WordPress पर है। तो आप इस काम को Yoast SEO Plugin की मदद से बहुत ही आसानी से कर सकते हैं।

लेकिन अगर आपकी site blogger.com पर है। तो आपको इस काम को manually करना होगा। आप मेरी यह article Advance Blogger SEO Settings कैसे करे? जरुर पढ़े। इससे आप आसानी से अपने blogger blog की Advance SEO Settings कर सकेगे।

आप XML Sitemap Generator की website पर जाकर अपने blog का XML Sitemap generate कर सकते हैं। उसके बाद आपको उस sitemap को Google Search Console में submit करना होगा।

2. Google Search Console में Sitemap submit करें

अपने website का Sitemap Google Search Console में submit करना बहुत जरुरी होता है। क्यों की sitemap submit होने के बाद ही google आपके post और pages को अपने search engine में index करना शुरू करेगा।

दरसल Google Search Console गूगल का एक ऐंसा टूल है। जिसमे आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को जोड़कर अपने post और pages को google में index करा सकते हैं। साथ ही इस tool की मदद से आप Google से आने वाले traffic और अपने article की ranking चेक कर सकते हैं।

आप अपने website को Google Search Console के अलावा bing webmaster tool और Yandex Webmaster में भी जरूर submit करें।

3. Google Analytics से अपने site को Connect करे

Google analytics भी गूगल का एक free tool है। इस tool की मदद से आप आपने blog या website पर आने वाले visitor की activity को track कर सकते है। इसके अलावा भी आपको इस tool में अपने website से रिलेटेड काफी सारी जानकारियाँ मिल जाती है।

अपने website की SEO performance को monitor करने के लिए यह tool बहुत काम की है। आप यहाँ से मिले हुवे data के आधार पर SEO को improve कर सकते हैं।

Important SEO Terms हिंदी में

यदि आप किसी blog या website के मालिक है। तो आपको कुछ Important SEO Terms के बारे में जानकारी होनी चाहिए। चलिए कुछ महत्वपूर्ण SEO Terms के बारे में हिंदी में जान लेते है।

Title Tag क्या होता है:

किसी भी Web Page का जो Title होता है। उसे Title Tag कहा जाता है। यह Google Search Algorithm के लिहाज से बहुत ही important factor है। Title Tag में आप अपने article के main keyword का इस्तमाल जरुर करे।

Meta Tags क्या है:

इस Tag की मदद से Search Engines को यह समझने में आसानी होती है की आपका article किस tropic के उपर लिख गया है। Meta Tags में भी आप अपने पोस्ट के main keyword का इस्तमाल जरुर करे।

Keyword Density क्या होता है:

SEO के दृष्टिकोण से पोस्ट में Keyword Density काफी महत्वपूर्ण है। दरसल Keyword Density से यह पता चलता है की आपने अपनी article में main Keywords को कितनी बार इस्तमाल किया हैं।

Keyword Stuffing क्या है:

जैसा की हमने जाना Keyword Density SEO के लिए बहुत जरुरी है। लेकिन जब आप किसी Keywords को अपने पोस्ट में जरुरत से ज्यादा इस्तमाल करते है। तो उसे Keyword Stuffing कहते हैं।

एक तरह से आप इसे Negative SEO कह सकते हैं। Keyword Stuffing करने से आपके Blog पर बुरा असर पड़ता है।

Backlinks क्या होते है:

यह एक तरह का hyperlink होता है। Backlink को inlink या simply link भी कहते है। Backlinks seo के लिहाज से काफी महत्वपूर्ण होता है। क्यों की यह किसी भी Webpage के Search Ranking में directly प्रभाव डालता है।

Crawling किसे कहते है:

किसी software या bots की मदद से internet पर उपलब्ध लाखों webpages को स्कैन करते हुवे जब प्रतेक webpages की पूरी information प्राप्त किया जाता है। तो इस process को crawling कहतें है।

Ranking और Indexing क्या होता है:

Crawling पूरी होने बाद उन सभी webpages को उनके quality के आधार पर Ranking देकर index किया जाता है।

Search Engine किसी भी webpage को ranking देने से पहले बहुत सारी बातों का ध्यान रखता है। जैसे की Content Quality, Backlinks, Reliability इत्यादि.

SERP क्या होता है:

SERP का full form “Search Engine Results Page” होता हैं। यह उन pages को show करता है। जो Google Search Engines के हिसाब से Relevant होते है।

Type of Seo Techniques

  1. White hat seo
  2. Black hat seo

Seo Techniques दो तरह की होती है। जिन्हें अच्छे से समझना बहुत जरूरी है। तभी आप अपने site पर traffic increase कर सकते है वरना आप अपनी website को ही नुकसान पहुंचा सकते है।

White hat SEO क्या है?

White hat SEO

जब आप अपने blog या website के लिए सही तरीके से search engine optimisation और link building करते है। तो उसे white hat SEO कहते है।

जितने भी Best Blogs और websites है। वे लोग इसी Technique का इस्तेमाल करते है। White hat seo से आप आपने website की value बढ़ने के साथ साथ traffic भी increase कर सकते है।

Black hat seo क्या है?

जब कोई अपने website को rank करने के लिए search engine की guidelines का पालन नही करता है। तो उसे Black hat SEO कहा जाता है।

इसके इस्तेमाल से website पर बहुत बुरा प्रभाव पड़ता है। इसलिए आप अपने website को rank करने के लिए गलती से भी इस techniques का इस्तमाल ना करे।

Organic और inorganic results क्या होते हैं?

SERP पर मुख्यतः 2 types की listings होती हैं:

  • Organic
  • Inorganic

Organic listing: यह पूरी तरह से free होती है। इसमें आपको Google के top page पर आने के लिए एक रूपयाँ भी खर्च नहीं करना होता है। लेकिन इसे पाने के लिए पहले आपको SEO करना बहुत जरुरी है।

Inorganic Listing: यह paid होते है। इसके लिए हमें Google को पैसे देने होते है। यानि की आपको पैसों का भुक्तान करके लिस्टिंग करवाना पड़ता है।

SEO और SEM में क्या अंतर है?

SEO की मदद से आप अपने ब्लॉग या वेबसाइट को optimize करके उनके post और pages को Search Engine में rank करा सकते है। ताकि आपके website पर free organic traffic आ सके।

SEM (Search Engine Marketing) एक marketing process है। इसकी मदद से आप अपने website को search engines में ज्यादा visible बना सकते है। ताकि आपको ज्यादा traffic मिल सके। फिर चाहे वह free traffic (SEO) से मिले या paid traffic (Paid Search Advertisement) से आए।

SEO और Internet marketing में Differnce क्या है?

बहुत सारे लोग SEO और Internet Marketing को प्राय एक ही समझते हैं। लेकिन आपको बता दू की SEO एक प्रकार का Tool हैं और Internet Marketing उसका एक हिस्सा हैं। हां आप यह कह सकते है की SEO के इस्तमाल से Internet Marketing को कर पाना बहुत ही सरल हो जाता है।

SEO क्या है हिंदी में

मुझे पूर्ण विश्वास है की अब आप समझ गए होंगे SEO kya hai (What is SEO in Hindi). लेकिन आपके मन में अभी भी SEO kya hai और एसईओ कैसे करते है? को लेकर कोई सवाल या doubts हैं। तो आप नीचे comments लिखकर जरुर बताए।

अगर आपको मेरी यह article सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन क्या है? की जानकारी हिंदी में पसंद आयी हो या आपको seo kya hai? के बारे में कुछ सीखने को मिला हो। तो आप अपनी प्रसन्नता जाहिर करने के लिए कृपया इस article को Social media sites पर जरुर share कीजिये।

शेयर करे

Leave a Comment